Home Cultural View History Promotion Tribal Christianity Literature News Download Tutorial Members Area Touch It

Literature Menu

SWFMenu Placeholder.

 टूड़ा | पइत टूड़का | खीरी | डण्डी | नन्ना गुट्ठी | तोलोङ सिकि नू टूड़का कत्थूड़ा  | पन्ना #1
 

Miscellaneous - Headlines

 
1. There is only one God amid Tribals              Author: Ashirvad XaXa

   Posted: 24, Jun, 2014

2. जंगल के गीत                                                 लेखकः पीटर पौल एक्का

   Posted: 31, March, 2014

  

3. हिन्दी कविताओं की रचयिता - ग्रेस कुजुर                  

   मुद्रणः  19 मई, 2014

  

4. पीपल की छाँव -कहानी                 लेखकः नेम्हस एक्का

   मुद्रणः  15 जून, 2012

  

5. खूँट कट्टी - लेख।                       लेखकः रेभ. प्रकाश पुथुस्सरी

   मुद्रणः  07 जून, 2010

6. आदिवासी अस्तित्व और भूमि सुरक्षा व्यवस्था - लेख लेखकः नेम्हस एक्का

   मुद्रण : 21 जनवारी, 2012

7. उराँव लोक-नृत्य, संगीत एवं वाद्य् यंत्र - लेख    लेखकः नेम्हस एक्का

   मुद्रणः : 10 जनवारी, 2010

8. Armor of mortality - Article                  Author - Mc Lican Ekka, Raipur

   Posted: 28th Jan, 2012

9. Giggles                                                 Author - Ashwin Ekka, Raipur

   Posted: 30th Jan, 2012

10. The valley of peace and love - peom.     Author - Swati Kujur, Jamshedpur

   Posted: 28th Jan, 2012

11. आदिवासियों का विकास पाँचवी अनुसूची के रास्ते संभव  लेखकः नेह अर्जून इंदवार

   Posted: 11th March, 2013

12. सादरी करम डण्डी                             लेखकः श्री रामाकान्त भगत, मेढ़ो लोहरदगा

   Posted: 18th May, 2013

13. आदिवासियों की दशा एवं दिशा     लेखकः डॉ. निर्मल मिंज, राँची

   Posted: 01, Sept, 2013

14. नकली आधुनिकता का शिकार उराँव आदिवासी        लेखकः मनोहर तिर्की, राँची

   Posted: 11, Sept, 2014

 टूड़ा | पइत टूड़का | खीरी | डण्डी | नन्ना गुट्ठी | तोलोङ सिकि नू टूड़का कत्थूड़ा  | पन्ना #1

मूःली पाँती

ई जल्ली अड्डन् खेंदना, कमना, सरियआना अरा पोसना(maintenance) नूँ एम तंगआ अनईत बेड़ा, चिहुँट अरा ढिबा खेपचकम् बेअद्म। नेकईम ई जल्ली अड्डा गही निस्ठन्(लक्षय)पूरा नंना खतरी सिरनी(दान) ती पंड़सा बेद्दोर, आर महबा अरा धइन् जोगे रअनर।  पंड़सा गे किल्क नंन